loading...

Havas Ateet Mein

loading...

हेल्लो दोस्तों मै टीना जैन इंदौर से आज दिनांक २०/१०/२०१० को मै २० साल १० महीने २० दिन की हो गयी हूँ . आज मै अपने अतीत
के बारे मै लिखना प्रारंभ कर रही हूँ . मेरे पिता जी एक बिजनेसमेंन है मम्मी गृहणी है . मेरे परिवार मै पापा मम्मी और हम दो बहने है. मेरे पापा का नाम अतुल(43) है . मम्मी का नाम वैशाली(42){36D-32-36} है . मेरी बहेन का नाम इप्शिता(17) है .हमारा घर बहुत बड़ा है .हम लोगो के पास बहुत पैसा है . बचपन से हम बहने बहुत लाड प्यार मै पली बड़ी है . मेरे पापा बहुत हैण्डसम है . मेरी माँ भी बहुत सुंदर है . मेरी माँ बहुत धर्मालु है वो रोज मंदिर जाती है .मेरे पापा के एक भाई(आशीष) भी है जो भोपाल मै रहते है . वो कभी कभी हमारे घर आते है .

१. सहेली के साथ ..

बात तब शुरू होती है जब मै १५ साल की थी . उस समय मेरा फिगर {34D-29-33} था . एक दिन मेरी सहेली तान्या ने मुझे अपने घर बुलाया उसने कहा की एक ऐसी बात बताएगी की मुझे भी नहीं पता है. मै क्लास की टॉपर थी . कोई बात मुझे न पता हो ये नहीं हो सकता मै ऐसा मानती थी . मै उस दिन उसके घर गयी उसके घर कोई नहीं था उसने मुझे अपने कमरे मै चलने का कहा मै उसके साथ गयी थोड़ी देर बाद वो अपने कपडे उतारने लगी . उसना कहा की तुझे पता है पति पत्नी क्या करते है रात मै ? मै दंग हो गयी वो पूरी तरह नंगी थी . मेने कहा नहीं तो वो हसने लगी कहने लगी की मै बताती हू पहले अपने कपडे उतार. मेने मना किया तो मेरे स्तन दबाने लगी मुझे बहुत अच्चा लगा मै चुप चाप अपने कपडे उतारने लगी . फिर उसने कहा की मेने अपने भैया की अलमारी से ये किताब चुराई है इस मै सब दिया है . इसे जरुर पड़ना फिर वो मेरे निप्पल दबाने और चूसने लगी . मुझे बहुत मजे आ रहे थे उसने कहा की मेने भैया को बाथरूम मै देखा है नंगा .. तुमने कभी लंड देखा है? मेने कहा नहीं पर सुना है . उसने कहा की कभी रात मै अपने पापा मम्मी को देखा है क्या करते है . मेने कहा नहीं . तो कहने लगी की आज देखना .. फिर वो अपनी ऊँगली मेरी योनी पर फेरने लगी . उसना पूछा की पता है इसे चूत कहते है मेने कहा की मुझे पता है. वो कहने लगी लंड को चूत मै घुसाते है तो बहुत मजे आते है . और मेरी योनी मै अपनी ऊँगली घुसा दी मै उचल गयी मेरी चीख निकल गयी . मुझे बहुत दर्द होने लगा मरी योनी गीली हो गयी मै पीछे हट गयी . तब वो बोली यार पहली बार मै दर्द होता है मेने पड़ा है फिर वो मेरी योनी चाटने लगी मेरी तो जान ही निकल गयी . मुझे बहुत मजा आ रहा था ऐसा लग रहा था की मेरे अन्दर कोई ज्वालामुखी फूट गया हो . फिर थोड़ी देर बाद मेरी योनी से पानी निकलने लगा मेरा शरीर अकड़ने लगा .. में बता नहीं सकती की मुझे कितना अच्छा लग रहा था .मेरी सहेली वो पानी पीने लगी . उसने बताया की उसके पापा ने कल उसकी मम्मी के साथ ऐसा ही किया था . फिर उसने मुझे वो किताब दे दी. में उसे घर ले आई मेरा चेहरा पूरी तरह लाल था .

२. मम्मी की जोरदार चुदाई और एक गहरा राज़

मम्मी ने पूछा की क्या हुआ . मेने कहा की कुछ नहीं और में अपने रूम में चली गयी . मेने वो किताब पड़ी तो मुझे पता चला की पति पत्नी रात को क्या करते है . मुझे कई नयी बाते पता चली कैसे बच्चा पैदा होता है . सुहागरात को क्या होता है . किताब पड़ने के बाद मेरा मन भी किसी को सेक्स करते हुए देखने को हुआ . मेने सोचा की आज रात को पापा मम्मी को देखूंगी . उस दिन पापा अपने बिज़नस टूर से लोटे थे . रात को खाना खाने के बाद मम्मी ने हमसे कहा की जाओ सो जाओ . मुझे अजीब लगा क्योकि मम्मी हमें रोज रात को ११ बजे तक पड़ने को कहती थी . और आज तो ९:३० ही हो रहे थे हम दोनों बहने अपने रूम में आकर सो गयी . पर मेरी आँखों में नींद नहीं थी . आधे घंटे बाद जब मेरी बाहें सो गयी तब में उठने की सोच ही रही थी की मम्मी और पापा रूम में आ गए मम्मी ने धीरे से पूछा की हम जग रहे है क्या . में चुप चाप सोने की एक्टिंग करती रही .पापा बोले जानेमन बच्चिया सो गयी है अब चलो भी एक एक पेग हो जाये .मुझे अजीब लगा क्यों की पापा तो कभी कभी बार पीते थे पर मम्मी कभी नहीं पीती थी . फिर पापा मम्मी को गोद में उठा कर ले गए .
में कभी सोच भी नहीं सकती थी की मम्मी शराब पीती होगी . कुछ देर बाद में अपने रूम से बहार आई और पापा मम्मी के रूम की तरफ गयी पर वो लोग वहा नहीं थे . हॉल से उनके बात करने की आवाज आ रही थी में चुप चाप सीढ़ी उतर कर एक रूम का गाते खोल कर उसमे चुप गयी . ये रूम सीढियों के बिलकुल पास था और इसकी खिड़की से पूरा हाल दीखता था . पापा मम्मी सोफे पर बैठ कर शराब पी रहे थे मम्मी ने हरे रंग की साडी पहनी थी और पापा जींस टी शर्ट पहने हुए थे . पापा कह रहे थे जानेमन टूर पर तुम्हारी बहुत याद आई . तुम्हारी याद में मेरा लंड बहुत रोया . ये सुनकर मम्मी हसने लगी .मुझे समाज नहीं आया की पापा किस तरह से मम्मी से बात कर रहे है
.मम्मी ने कुछ देर बाद कहा की अतुल एक बात पुछु सच बताना.मम्मी हमेशा पापा को आप कह कर बात करती थी पर आज वो पापा का नाम लेकर बात कर रही थी .तुमने इन चार दिनों में कितनी लडकियों को चोदा है ? ये सुनकर में दंग रह गयी की मम्मी कैसी बाते कर रही है . पापा ने कहा की दो लडकियों को और एक औरत को और वो मुस्कुराने लगे मम्मी भी मुस्कुरा दी .में बता नहीं सकती की में कैसा फील कर रही थी . मुझे यकींन नहीं हो रहा था की ये मेरी धर्मालु माँ है . मम्मी बोली मुझे पता है तुम्हे रोज सेक्स करने की आदत है इसके बिना तुम नहीं रह सकते हो . पापा ने कहा की में भगवान महावीर का शुक्र गुजार हु की उसने मुझे तुम जैसी पत्नी दी . मम्मी ने कहा की तुम्हे पता है चार दिन में मेरी हालत कैसी हो गयी है .
में तो किसी और से सेक्स नहीं कर सकती हु तुम्हारे सिवा पापा हसे और मम्मी का हाथ पकड़ कर उन्हें अपनी गोद में खीच लिया . फिर मम्मी को किस करने लगे. फिर मम्मी से कहा की आज पूरी रात में तुम्हारे साथ हु बोलो क्या करोगी. मम्मी ने हँसते हुए कहा की आज पूरी रात तुम्हारा लंड अपनी चुद से नहीं निकलने दूंगी . ये सुन कर मेरी हालत ख़राब हो गयी मेरे मम्मी पापा को में इस तरह बात करते हुए देख रही थी . में भी गर्म होने लगी .ये सुनकर पापा ने कहा की तुम दिनों दिन बहुत सेक्सी होती जा रही हो. पापा ने मम्मी को अपनी गोद में बिठा रखा था . वो मम्मी को किस करने लगे और मम्मी के बूब्स दबाने लगे . कुछ देर बाद उन्होंने मुमी की साडी और ब्लौस उतर दिए मम्मी एक ब्लैक ब्रा पहने हुए थी . पापा ने वो भी उतर दी मम्मी के बड़े बड़े बूब्स देख कर में समझ गयी की मेरे बूब्स १५ की उम्र में ही किसी औरत के बूब्स की तरह क्यों है? ये मुझे विरासत में मिले थे.
पापा बेकाबू होकर मम्मी के निप्पल चूस रहे थे और जोर जोर से दबा रहे थे . मम्मी सिसकारी ले रही थी . फिर मम्मी ने पापा की टी शर्ट खीच कर निकल दी पापा बनियान नहीं पहनते है और दोनों एक दुसरे के जिस्म को बाहों में बहर कर रगड़ने लगे. मेरी पंटी गीली हो गयी थी मेने अपनी नाइटी उतर दी और पंटी में हाथ डाला तो मेरी छुट बहुत गर्म हो रही थी में अपनी चूत पर ऊँगली घुमाने लगी . पापा भी मम्मी के पेटीकोट को उतर चुके थे . फिर पापा ने अपना पैंट उतारा मेने देखा की उनकी अंडरवीअर आगे से उठी हुई थी .पापा ने मम्मी की पैंटी उतर दी मेने देखा की मम्मी की चूत मेरी चूत से कुछ अलग दिख रही थी मेरी चूत पर कुछ बाल भी थे पर मम्मी की चूत बिलकुल साफ़ थी , पापा ने मम्मी की चूत में झटके से एक ऊँगली घुसा दी मम्मी ने सिसकारी ली आह्ह्ह्हह्ह अतुल धीरे . मम्मी ने पापा की अंडरवीअर उतर दी में दंग रह गयी पापा का लंड लगभग ७.५ इंच लम्बा और २.५ इंच मोटा था . मेने किताब में पड़ा था की सामान्य लंड ६ इंच लम्बा होता है मुझे यकीन नहीं हुआ की मम्मी की चूत ये झेल पाती होगी . मम्मी पापा के लंड को अपने हाथो से हिलाने लगी पापा सिसकारी लेने लगे . फिर पापा ने मम्मी सो जमीन पर घुटनों के बल बैठाया और अपना लंड उनके मुह के पास कर दिया . मम्मी पापा का लंड चूसने लगी. [/img]वो उसे जोर से चूस रही थी पापा धीरे धीरे अपना लंड आगे पीछे कर रहे थे . पापा ने फिर मम्मी का सर पकड़ लिया और जोर से धक्का मारा पूरा लंड मम्मी के मुह में घुस गया वो मम्मी एक गले में जाकर अड़ गया मम्मी घबरा गयी . उन्होंने एकदम सर खीच लिया वो हांफ रही थी बोली क्या अतुल मेरी जान लेने का विचार है? पापा बोले नहीं यार तुम धीरे धीरे सर हिला रही थी इस लिए मेने जोर से हिला दिया . पापा ने फिर से लंड मम्मी के मुह में दे दिया कुछ देर बाद पापा अकड़ से गए में समझ गयी की पापा झडने वाले है में ये बात किताब में पड़ चुकी थी. पापा ने एकदम मम्मी का सर पकड़ लिया और पूरा वीर्य मम्मी के मुह में निकल दिया . मम्मी उसे पीने लगी . फिर पापा ने मम्मी को सोफे पर लिटा दिया और उनकी चूत चाटने लगे . आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह मम्मी ने जोर से आवाज निकली क्योकि पापा ने अपनी जीभ उनकी चूद में घुसा दी थी पापा मम्मी की चूत जोर जोर से चाटने लगे जैसे कोई बिल्ली दूध पीने के बाद कटोरे पर लगी मलाई चाटती है . मम्मी और मेरी दोनों की हालत ख़राब थी . मेरा देखने में हाल था तो मम्मी का क्या हाल होगा में ये सोचने लगी .थोड़ी देर बाद मम्मी जोर जोर से सिसकारी लेने लगी और उनकी चुद से पानी निकलने लगा . पापा गटा गट पूरा पानी पी गए .
अब मुझे समझ आया की कुछ दिन पहले सुबह जब में मम्मी को आवाज देती हुई कीचन में गयी तो मम्मी घबराई हुई थी और पैर फेला कर खड़ी थी . उन्होंने पूछा – अह क्या हुआ हहा . मेने कहा की कुछ नहीं कॉफ़ी पीनी है . उसे समय उनका चेहरा बिलकुल लाल था .वो बोली ठीक है में रूम में लाती हु बना के आह्ह्ह . मेने पूछा मम्मी क्या हुआ तो वो कुछ नहीं बोली उनकी आँख बंब हो गयी वो अकड़ गयी थी. वो काँप रही थी . फिर वो जोर जोर से सांस लेने लगी और कहा की तबियत कुछ ठीक नहीं है . मेने कहा की क्या हुआ तो वो गुस्से में बोली कुछ नहीं अभी जाओ परेशान मत करो बहुत काम है .में चुप चाप बहार आ गयी और हाल में बैठ कर पेपर पड़ने लगी मम्मी किसी पर घुस्सा कर रही थी फिर कुछ देर बाद पापा किचन से बहार आये . में कुछ समझ नहीं पाई थी . पर नाश्ते के समय पापा ने मम्मी से कहा था की रोज सुबह ऐसे ही मलाई खाऊंगा आज की तरह .और मम्मी शर्मा गयी थी . अब में पूरी तरह समझ चुकी थी की उस दिन मम्मी की साडी के अन्दर पापा बैठ कर मम्मी की चूत चाट रहे थे .
कुछ देर लेटने के बाद पापा किचेन में गए और फ्रीज़ से चोकलेट मलाई और क्रीम लेकर आये . पापा ने कहा की जानेमन आज हम एक नयी चीज करेंगे . मम्मी ने कहा कि आज फिर से मेरी गांड फाड़ने की सोच रहे हो क्या . में सोच रही थी की क्या पापा ने मम्मी की गांड मारी है इतने में पापा ने कहा की पूरी रात है आज तुम खुद अपनी गांड मारने का कहोगी. मम्मी ने कहा की इम्पोसिबल . पापा ने कहा की शर्त है तुमने रात भर चुदने के बारे में कहा है में तुम्हे इतना चोदुंगा की तुम खुद कहोगी की प्लीस अब मतचोदों बहुत दर्द हो रहा है . फिर में तुम्हारी गांड मारने का कहूँगा और तुम मना नहीं करोगी.
फिर पापा ने कहा की तुम्हे क्रीम बहुत पसंद है तो खाओ . और अपने लंड पर क्रीम लगा दी मम्मी ने मना किया तो पापा ने कहा जानेमन वीर्य पी सकती हो क्रीम नहीं खा सकती ? मम्मी पापा के लंग को चूसने लगी और क्रीम खाने लगी . फिर पापा ने मम्मी की चूत में चोकलेट बहर दी और उसे चाटने लगे . ये देख कर मेरी ऊँगली अपनी योनी पर जोर जोर से चलने लगी . और मेरा शारीर अकड़ गया में हांफने लगी और में झड़ गयी . मेने देखा की मम्मी बहुत बेचेन हो रही थी पापा का लंड पूरी तरह तना हुआ था . मम्मी उनका लंड पकड़ कर कीचने लगी . पापा ने मम्मी की एक टांग उठा ली मम्मी करवट लार सोफे पर लेती थी पापा ने उनकी चूत के मुह पर लंड टिकाया और कहा की डार्लिंग आज का कार्यक्रम शुरू करे मम्मी ने कहा हा . और मम्मी ने कहा ” बोलो महावीर भगवान की ” “जय” पापा और मम्मी एक साथ बोले और ठीक जय के साथ ही पापा ने इतनी तेज झटका मारा की पूरा लंड मम्मी की चूत में बैठ गया मम्मी जोर से चीलाई आआआआआह्ह्ह्ह पापा बिना रुके जोर जोर से धके लगाने लगे जैसे रोड पर कोई कुत्ता किसी कुतिया को चोदते हुए लगता है . मुझे विस्वास नहीं हुआ की ये मेरे वही माँ बाप है जो धर्म में बहुत आस्था रखते है .पापा बहुत जोर जोर से धक्के लगा रहे थे फिर उन्होंने मम्मी की चूत से लंड निकाला उनका लंड पूरी तरह चिकने पदार्थ से गिला हो रहा था . उन्होंने मम्मी को जमीं पर घुटनों के बल बैठा दिया . मम्मी अब सही में किसी कुतिया की तरह बैठी थी पापा उनके पीछे आये और उन्ही चूत में लंड डालकर जोर जोर से धक्के मारने लगे . पापा ने पूछा वैशाली याद है ये डौगी स्टाइल .
मम्मी ने कहा की हा ये मिस्टर अग्रवाल की फेवरेट स्टाइल थी . पापा हसने लगे फिर गंभीर होकर कहने लगे की वैशाली आज में जो भी हु सब तुम्हारी वजह से हु . अगर उस दिन तुम मिस्टर अग्रवाल से चुदवाने को मना कर देती तो वो कोन्टरेक्ट हमें नहीं मिलता और हम आज भी गरीब होते. मम्मी ने कहा की मेने वो सब हमारी भलाई के लिए किया था . पापा ने कहा की अग्रवाल बहुत कमीना इन्सान था साला हरामी उसने तुम्हे प्रेग्नेंट किया और हमें ब्लैकमेल किया की अगर गर्भ गिराया तो में कोन्टरेक्ट निरस्त कर दूंगा . सोचो वैशाली अगर किसी दिन तीन को पता चल गया की में उसका बाप नहीं हु तो क्या होगा ?
ये सुनकर मेरे पैरो के नीचे से जमीन खिसक गयी . मेरी हालत का अंदाजा आप लगा सकते है . जिस आदमी को में १५ साल तक अपना बाप समजती रही वो मेरा बाप नहीं था मुझे अपने माँ बाप पर गुसा आने लगा .तभी मम्मी ने कहा की ये बात हम दोनों के बीच है . उसे कैसे पता चलेगा? खैर तुम उसे अपनी सगी बेटी इप्शिता से भी ज्यादा प्यार करते हो.
और अग्रवाल इतना कमीना भी नहीं था मेने तुम्हे एक बात नहीं बताई है.

अग्रवाल टीना के जन्म के २ साल बाद घर आया था जब तुम टूर पर गए थे वो ६ दिन मेरे साथ पति की तरह रहा में मना नहीं कर पाई. फिर उसने मुझे अपनी कहानी सुनाइ की उसकी पत्नी ने उससे धोका किया है उसके दोनों लडको में से को भी उसका अपना नहीं है. इसी लिए उसने हमें ब्लैकमेल किया वो इस दुनिया में अपनी खुद की औलाद चाहता था. तुम क्या सोचते हो उसने टीना के नाम वो ४० लाख रुपये क्यों किये है . उसने मुझे उसी दिन बता दिया था की अगर तुम्हे लकड़ा होता तो में अपनी पूरी जायदात उसके नाम कर देता . उसने मुझसे कहा की अगर में उसके एक और बच्चे को जन्म दू तो वो हमे १० लाख रूपये देगा . मेने मना कर दिया उसने कहा की में मरने इ पहले इस बच्ची के नाम काफी पैसा कर दूंगा ये मेरा वादा है .तुम्हे पता है हमारे यहाँ उस समय रजनी नाम की विधवा नौकरानी काम करती थी . पापा ने कहा हा . मम्मी ने कहा की एक दिन उसने अग्रवाल और मुझे सेक्स करते हुए देख लिया था. फिर मैंने अग्रवाल से कहा की अगर में तुम्हारे लिए एक औरत ला दू जो तुम्हारा बच्चा पैदा करे तो वो खुस हो गया .
पापा अब भी जोर जोर से मम्मी को चोद रहे थे.फिर वो एकदम धीमे हो गए मम्मी भी जोर की सिसकारी लेकर अकड़ गयी और पापा का वीर्य मम्मी की चुद में जाने लगा कुछ वीर्य मम्मी की टांगो पर भी बह रहा था. फिर मम्मी जमीं पर लेट गयी पापा उनकी चुद चाटने लगे. फिर पापा सोफे पर बैठ गये मम्मी ने उनके लंड से वीर्य की एक एक बूंद चाट ली. दोनों सोफे पर एक दुसरे को बाहों में लेकर निढाल हो गए .

पापा ने पूछा आगे बताओ.
मम्मी बोली की- उस दिन अग्रवाल ने जाने का नाटक किया जैसा मेने कहा था और घर की एक दुप्लीकेट चाभी उसे दे दी . फिर मेने रजनी को अपने कमरे में ले गयी और गुस्से में उससे पूछा की तुम मेरे कमरे में क्यों झाँक रही थी कल . वो डर गयी बोली मालकिन में तो झाड़ू लगाने आई थी . में किसी से नहीं कहूँगी सच . और वो रोने लगी मेने और जोर की आवाज में कहा की जा साली तेरे कहने से क्या होता है. मेरा पति मुझे बहुत प्यार करता है वो ये सुनते ही तुझे जान से मार देगा. वो बहुत दर गयी हाथ जोड़ कर मेरे पैरो में गिर कर बोली मालकिन सच में कभी अपना मुह नहीं खोलूंगी . मुज पर दया कीजिये आप जैसा कहोगी में वैसा करुँगी आज से . मेने कहा ठीक है जा एक गिलाश पानी ला मेरे लिए वो जल्दी से पानी ले आई . में बेद पर लेट गयी और उससे जमीं पर बैठने को कहा .

मेने उससे पूछा की तेरे पति को मरे हुए कितना टाइम हुआ है ? उसन कहा की मालकिन २ साल . मेने उससे उम्र पूछी तो बोली की ३३ साल है मेने बचो का पूछा तो कहा इ एक भी नहीं मेने पूछा की क्यों तो उसने कहा की मेरा पति नामर्द था . उसका तो खड़ा ही नहीं होता था . इसी लिए उसने आत्माहत्या कर ली . मैं ये सुनकर खुस हो गयी . मेने उसे कहा की मेरी अलमारी में नीचे के खाने से पुराणी ब्रा और पैंटी निकाल. उससना तुरंत कहना माना. मेने उससे कहा की मेरा साइज़ तुजे थोडा बड़ा पड़ेगा पर इसे पहन ले तेरे पास ये चीजे नहीं है .
.
पापा ने हँसते हुए कहा की हा तुम्हारे बूब्स तो शुरू से ही बहुत बड़े है.

मम्मी ने आगे कहा की वो दुसरे कमरे में जाकर ब्रा और पंटी पहन कर आ गयी .में एकदम चिल्लाई साली कुतिया मेने कहा था की सिर्फ ब्रा और पंटी पहन कर आना . उसने कहा नहीं मालकिन आपने तो सिर्फ पहनने के लिए कहा था . में फिर गुस्से में बोली साली जुबान लड़ती है .. चल यहाँ आ . वो आई तो मेने खीच कर उसकी साडी उतर दी . बेचारी सिर्फ मालकिन मालकिन करती रह गयी . फिर मेने उसका ब्लौसे और पेटीकोट भी उतार दिया .उसका फिगर भी काफी अचछा था .

फिर मेने भी अपने कपडे उतारे और पूछा की तेरे घर में कोन कोन है? उसने कहा की सास और में बस . मेने पूछा किसी से करने का मन नहीं करता तो बोली की करता है पर क्या करू . मना कहा की में तुजे लंड दिलाऊ तो और तुजे बच्चा भी पैदा करवाऊ तो वो दर कर बोली नहीं मालकिन बहुत बदनामी होगी . मेने कहा की तेरी सास अच्छी है? उसन कहा नहीं कमीनी है मुझे मारती भी है .
मेने कहा की तू उसे छोड दे उसके साथ क्यों रहती है ? तो बोली मालकिन कहा जाउंगी ? मेने कहा की ये कपडे भी उतार . हम दोनों नंगी हो गयी थी में उसके बोबे दबाने लगी फिर वो भी मूड में आ गयी मेने उसकी चूत में ऊँगली घुसाई तो वो नहीं घुसी वो चिल्लाई आह्ह्हह्ह उसकी चूत बहुत टाइट थी मेने बहुत देर तक उससे अपनी चुद चटवाई . फिर उसे बेद पर लिटा कर उसकी साडी से उसकी आँख बाँध दी .

मेने कहा की मुझे शर्म आ रही है . मेने अग्रवाल को इशारा किया वो रूम में आ गया फिर वो रजनी की चूत चाटने लगा . फिर जब रजनी

झड गयी तो में रजनी के साथ लेट गयी और उसके बोबे दबाने लगी अग्रवाल मेरी चूत चाटने लगा . जड़ में झेड गयी तब मेने रजनी से कहा की में तुम्हारी चुद में एक खीर डालूंगी . मेने उससे कहा की अपनी टाँगे पूरी तरह से फेला ले . मेने अग्रवाल से इशारे में कहा की बिना इसे टच किये . फिर वो अपने लंड को उसकी चुद पर फिरने लगा रजनी की हालत ख़राब हो रही थी . कहने लगी मालकिन जल्दी अब सब्र नहीं होता . अग्रवाल ने धीरे धीरे लंड उसकी चुद में घुसना चलू किया तो रजनी की चीख निकाल गयी .

ये सुनकर पापा का लंड फिर तन गया . वो सोफे पर लेट गए और मम्मी को अपने खड़े लंड पर बैठने को कहा . मम्मी पापा के लंड पर बैठ गयी और ऊपर नीचे होने लगी . पापा ने पुछा की वैशाली तुमने मुझे ये बाते पहले क्यों नहीं बताई ? मम्मी बोली की अग्रवाल ने मुझे टीना की कसम दी थी की मेरे मरने के पहले ये बाते अपने पति को मत बताना इसलिए . आप मुझे माफ़ कर दे . पापा ने कहा की कोई बात नहीं . आगे बताओ

मम्मी पापा के लंड पर ऊपर नीचे हो रही थी. मेरी ऊँगली भी अपनी योनी में धीरे धीरे अन्दर जा रही थी .

मम्मी बोली- अग्रवाल ने पहला झटका जोर से मारा तो रजनी की चीख निकाल गयी मालकिन धीरे धीरे अग्रवाल ने पहले ही झटके में अपना आधा लुंड उसकी चुद में घुसा दिया था . फिर वो धीरे धीरे लंड चुद में अन्दर बहार करने लगा . रजनी बोली मालकिन बहुत मजा आ रहा है . फिर मेरे इशारे पर अग्रवाल ने लंड उसकी छुए से निकाल लिया तो वो बोली मालकिन थोड़ी देर और . उसकी आवाज में याचना थी . में बोली रुक में तुजे अब चोदूंगी . उसन पूछा कैसे ? मेने कहा की ये खीर बहुत बड़ा है इसे में अपनी चुद में पूरा डाल लेती हु . फिर भी ये इतना बहार बचा है जितना बड़ा मर्द डा लंड होता है . बस उसी से में तुझे चोदुन्गी उसने कहा मालकिन जल्दी बड़ा मजा आएगा . मेने कहा ठीक है और अग्रवाल को इशारा किया वो तुरंत उस पर चढ़ गया और उसकी चुद में लंड घुसा दिया . आधा लंड उसकी चुद में जाने के बाद उसने ऐसा झटका मारा की पूरा लंड उसकी चुद में उतार गया . वो झंझाना गयी फिर अग्रवाल उसे धीरे धीरे छोड़ने लगा वो भी उसके साथ कमर हिला रही थी . १५ मिनुत की चुदाई के बाद वो झड़ने लगी तो चिल्लाई मालकिन में तो गयी . तभी अग्रवाल भी झड गया .और पूरा वीर्य उसकी चूत में निकाल दिया .

आह्ह्ह कहकर मम्मी और पापा भी दोनों झड गए . पापा के लंड से होकर चुद से पापा का वीर्य और मम्मी का पानी निकलने लगा पापा ने मलाई का बर्तन उठाया और मम्मी की चुद के नीचे कर दिया . पूरा वीर्य और मम्मी का पानी मलाई ने गिर गया . पापा ने कहा की जानू में आज ये मलाई खाऊंगा थोडा सा जोर लगाकर अपनी चुद से पूरा माल इसमें में निकाल दो . मम्मी ने कहा की नहीं की ठीक है पर में शर्त लगाती हु की तुम इसे नहीं खा पाओगे . पापा ने कहा की ठीक है नाश्ते मई कल सुबह में यही खाऊंगा . मम्मी हसी और कहा की देखो . पापा उनकी चुद देखने लगे मम्मी ने थोडा दम लगाया और फिस्स्स्स की आवाज आई मेने देखा की मम्मी ने बर्तन में थो दी सी पेसाब कर दी थी वो पेसाब बहुतगाढ़ी थी उसमे मम्मी की चुद का पानी मिक्स था . मम्मी ने कहा की अब मलाई खाओगे ? पापा ने कहा उठो फिर उन्होंने भी थोसी सी वीर्य मिश्रित पेसाब बर्तन में कर दी उसे चम्मच से मिक्स करने लगे और कहा की सुबह मुझे नाश्ते में यही देना .पापा मम्मी दोनों फिर सोफे पर लेट गए .
मम्मी ने आगे कहा पता है
जब अग्रवाल का गर्म वीर्य उसकी चुद में जाने लगा
तब जाकर रजनी को अहसास हुआ की उसकी चुद में असली लंड है . उसने आँख से तुरंत साडी हटाई तो अग्रवाल को देखकर दंग रह गयी . उसने उठने की कोशिस की तो अग्रवाल ने उसे बांहोंमें भर लिया वो कहने लगी की मालकिन ये आपने क्या किया . अब बच्चा हो गया तो में क्या करुँगी? मेने कहा की तू फिक्र मत कर तू इनके फार्म हाउस पर इनकी बीबी बनकर रहना ये बच्चा चाहते है . तुम जिन्दगी भर आराम से रहना . वो खुस हो गयी .
अग्रवाल ने चार दिन तक हम दोनों की बहुत चुदाई की फिर तुम्हारे घर आने के तीन घंटे पहले रजनी को लेकर चले गया . तुम्हे पता है . वो हीरे का हार मुझे सड़क पर नहीं मिला था . वो अग्रवाल ने मुझे चुदाई का इनाम दिया था .

आप मुझे मेरे एक गुनाह के लिया माफ़ करेंगे ?मम्मी ने गंभीरता के साथ कहा. पापा ने पूछा कैसा गुनाह ? मम्मी ने कहा की उसके बाद जब भी आप टूर पर जाते वो और रजनी यहाँ आ जाते और हम सेक्स करते थे ..
पापा ने कहा की ये कब तक चलते रहा ? मम्मी बोली की जब तक टीना ७ साल की नहीं हो गयी तब तक . फिर जब भी अग्रवाल आता टीना पूछने लगती की ये कोन है तब मेने उसे माना कर दिया की अब यहाँ मत आना .
पापा ने कहा की वो हर बार तुम्हे कुछ देता था तो मम्मी ने कहा की हां . वो साब चीजे मेने टीना के दहेज़ के लिए लोकर में रखी है .
पापा ने गुस्से में कहा की में तुम्हे एक अच्छी पत्नी समझता था तुम तो रंडी निकली पैसा ले कर चुद्वाती हो . बताओ कितनो के साथ चुदवाया है ? मम्मी चुप हो गयी धीमी आवाज में कहा की और किसी से नहीं . पापा बोले की तुम्हे तो कोठे पर बैठना था बहुत माल कमाती .

मै ये भी नहीं सोच सकती थी की मेरे बाप ने अपनी पत्नी को एक कोन्टरेक्ट के लिए चुदवाया .मै ये भी नहीं सोच सकती थी की मेरा बाप असल मै मेरा बाप ही नहीं है . .मै ऐसा कुछ सोच भी नहीं सकती थी की मेरी माँ एक रंडी हो सकती है .

थोड़ी देर बाद मम्मी ने कहा की तुम मुझे रंडी बोल रहे हो पर मुझे रंडी किसने बनाया ? किसने मुझे अग्रवाल के निचे सोने के लिए कहा था? किसने मुझे अग्रवाल का गर्भ गिराने को रोका था? किसने अतुल किसने? वो तुम थे अतुल तुम . हा में रंडी हु पर सिर्फ और सिर्फ तुम्हारे कारण अतुल. एक बात बताओ अगर अग्रवाल तुमसे कहता की में तुम्हारे टूर पर जाने के बाद तुम्हारी बीबी को चोदुंगा तो तुम मना कर पाते? बोलो अतुल बोलो ? पापा कुछ नहीं बोल पाए . मम्मी ने कहा की तुम्हे उसे झक मार कर इज़ाज़त देनी पड़ती . और तुम हर बार टूर से आकर मुझे कई लकडियो को छोड़ने के किस्से सुनते थे मेने तो कभी कुछ नहीं कहा? तुम तो बहुत बड़े रंडी बाज़ हो और मुझसे ऐसी बात करते हो ?
पापा थोड़ी देर तक चुप रहे फिर कहने लगे मुझे माफ़ कर दो वैशाली में ये सुनकर अपने पर काबू नहीं रख पाया की साला अग्रवाल तुम्हे ६ साल तक चोदता रहा . मुझे माफ़ कर दो . पापा की आँखों में आंसू थे . मम्मी बोली ठीक है पर आज के बाद कभी ऐसा मत कहना . .

फिर पापा ने पूछा की रजनी को लड़का हुआ? मम्मी ने कहा की पहली बार तो लकड़ा हुआ पर जन्म के २ घंटे बाद वो मर गया था . दूसरी बार एक लकड़ी हुई है वो १२ साल की है इप्शिता और उसमे ३ दिन का अंतर है . उसका नाम रूपल है .

थोड़ी देर बाद पापा ने मम्मी से कहा की तुम खिड़की के पास चलो . पापा के टेबल लेकर खिड़की के पास गए पापा ने मम्मी से कहा की खिड़की पकड़ लो और एक पैर टेबल पर रख लो. फिर पापा ने अपना सनसनाता हुआ लंड मम्मी की चुद में घुसा दिया और मम्मी को चोदने लगे . मेरी हालत बहुत ही ख़राब थी में एक ही दिन में ४ बार झड चुकी थी मुझे नींद भी आ रही थी .पापा किसी घोड़े की तरह मम्मी को चोदे जा रहे थे मम्मी की हालत बहुत ख़राब थी वो पूरी तरह लाल हो गयी थी तभी आवाज आई चट्ट मम्मी में मुह से चीख निकल गयी . पापा ने मम्मी के नितम्बो पर जोर से चाटा मारा था . फिर तड़क तड तड पापा हर धक्के के साथ मम्मी के बड़े बड़े नितम्बो पर चांटे मार रहे थे .थोड़ी देर बाद पापा ने मम्मी को टेबल पर लिटा दिया और उनकी टाँगे फेला दी . मम्मी की चुद देख कर मेरे होश फक्त हो गए . मम्मी की चुद बहुत फ़ैल गयी थी . पापा का लंड एक झटके में दोबारा उनकी चुद में दाल दिया . पापा फिर से उसी स्पीड में मम्मी को चोदने लगे १५ मिनिट की जबरजस्त चुदाई के बाद वो दोनों झड गए . पापा मम्मी की चुद में लंड डाले हुए ही उन्हें गोद में उठा कर मलाई के बर्तन के पास ले गए और फिर से सारे माल बर्तन में निकल दिता फिर मम्मी को उसमे पेशाब करने को बोला और फी खुद ने भी थोड़ी पेसाब उस में कर दी .

पापा सोफे पर बैठ गए पापा ने मम्मी को अपने लंड को चूसने को कहा . फिर पूछा की अग्रवाल की मोंत के बाद रजनी कहा है. मम्मी ने कहा की अग्रवाल ने उसे पास ही में एक घर दिला दिया है वो वही रहती है अपनी बेटी के साथ . उसकी देती रूपल इप्शिता की ही क्लास में पड़ती है . अग्रवाल ने उसके नाम भी ८ लाख रुपये और रजनी के नाम ५ लाख रुपये कर दिए थे. में रूपल को पहचानती थी वो बहुत अच्छी लड़की थी मेने सोच में पड़ गयी वो मेरी बहन थी .
पापा ने फिर पूछा की अब वो किससे चुदवाती है? मम्मी ने कहा की किसी से भी नहीं उसकी लड़की बड़ी हो गयी है . तो पापा ने कहा की तुम चाहो तो उसे कभी कभी घर बुला लिया करो जब बच्चिया स्कूल जाये तब में तुम दोनों को उसी तरह चोदुंगा जैसे अग्रवाल चोदता था . सच कहू तो में उस समय उसे चोदना चाहता था. जब टीना तुम्हारे पेट में थी पर मोका ही नहीं मिला. मम्मी ने कहा की ठीक है रजनी के नाम से ही तुम्हारा लंड खड़ा हो रहा है .

पापा ने कहा की अब फिर से डोगी स्टाइल में में तुम्हे चोदुंगा.मम्मी ने कहा की नहीं तुमने आज इतनी जोर जोर से धक्के मारे है की मेरी चूत की दीवारे जलन कर रही है . पापा ने कहा की नहीं में तो चोदुन्दा या अपनी गांड मरवाओ. मम्मी ने कहा की पिछली बार आधा लंड ही गया था और में ५ दिन तक सही से लेट्रिन नहीं कर पाई थी . प्लीज़ रहने दो . पापा ने कहा की पहली बार में ही दर्द होता है. इस बार टूर पर मेने एक १५ साल की लड़की को छोड़ा था . उसने मुझे गांड मरने को भी कहा था. मम्मी ने कहा की वो कैसी थी ? पापा ने कहा की टीना जैसी बस उसके बोबे टीना के बोबो से छोटे थे . मम्मी ने हस्ते हुस कहा की अपनी लड़की को कैसी नजरो से देहते हो . पापा ने कहा की नहीं में तो बता रहा था.

मम्मी बड़ी मुश्किल से राजी हुई . पापा ने थोड़ी करें मम्मी की गांड के छेद पर मसल दी .अपने लंड को पूरा करें में लपेट लिया . फिर धीरे धीरे दबाव डालने लगे मम्मी कह रही थी की धीरे धीरे . फिर मम्मी एकदम चिल्लाई आआआ ह्ह्ह पापा के लाना का आगे का गोल सिरा मम्मी की गांड में घुस गया था . पापा ने एक जोर का झटका दिया तो मम्मी की तो जैसे सांस ही अटक गयी हो . पापा का आधा लंड उनकी गांड में था वो भू जोर से चिल्ला रही थी आःह्ह अतुल नहीं अझ निकल लो वापस आह्ह्ह्ह बहुत दर्द हो रहा है . में मर जाउंगी . आह्ह्ह . पापा ने कहा की चुप रहो नहीं तो लडकिया जाग जाएगी .मम्मी गिडगिडा रही थी तभी पापा ने अपना पूरा वजन और एक जोर दार झटका डाला . पापा की कमर मम्मी की कमर से चिपक गयी . उनका पूरा लंड मम्मी की गांड में था . पपने मम्मी का मुह उसी समय हाथ से बंद कर लिया था नहीं तो मम्मी इतनी जोर से चिल्लाती की पडोशी भी आवाज़ सुनकर आ जाते . मम्मी बिस्तर पर निढाल पड़ी थी . पापा कुछ देर उनके ऊपर लेते रहे फिर धीरे धीरे धक्के मरने लगे . मम्मी को कुछ आराम मिला .फिर थोड़ी देर बाद मम्मी भी पापा के साथ अपनी कमर हिलाने लगी . १० मिनिट बाद बाप झेड गए फिरा दोनों निढाल होकर सोफे पर लेट गए .

इसी बीच में भी २ बार झड चुकी थी . कमरे में जहा में कड़ी थी निचे गीला गीला हो रहा थो मेने अपनी पंटी से उसे साफ़ किया .

कुछ देर बाद मम्मी ने मलाई का बरतल ले जाकर किचेन में रख दिया .मम्मी को चलने में तकलीफ हो रही थी वो लंगड़ा कर चलरही थी . उन्होंने अपने और पापा के कपडे लेकर अपने बेडरूम में रख दिए . फिर खली गिलाश धो कर रख दिए . फिर पापा और मम्मी अपने रूम में जाकर सो गए .
मेने भी अपने कपडे पहने और पापा मम्मी के रूम में देखा तो दोनों नंगे ही एक दुसरे की बाहों में सो रहे थे
में भी अपने रूम में जाकर सो गयी ……………

loading...
loading...

Leave a Reply